थायरॉइड नोड्यूल्स (Thyroid Nodules ) के कारण और इसके उपचार

थायरॉइड नोड्यूल्स (Thyroid Nodules ):

थायरॉइड नोड्यूल्स ऐसे गांठ होती हैं जो आम तौर पर  थायराइड ग्रंथि के अंदर उत्पन्न होते हैं। थायरॉइड नोड्यूल्स थायरॉइड ग्रंथि में होने वाली समस्या है | थायरॉइड नोड्यूल्स थायरॉइड ग्रंथि में होने वाली वृद्धि को दर्शाता है |कुछ थायरॉइड नोड्यूल्स को पहचानना आसान  होता है लेकिन कुछ को  को पहचान पाना काफी मुश्किल होता है |

थायरॉइड नोड्यूल्स  के  कारण थायरॉइड कैसर जैसी भयानक बीमारी होने की सम्भावना जादा होती है |इसकी पहचान डॉक्टर द्वारा गर्दन  जाँच  या फिर एक्सरे के माध्यम से होती है | थायरॉइड नोड्यूल्स थायरॉइड ग्रंथि के किनारे स्थति होते हैं यह गले में एक   गांठ के रूप में महसूस क्या जा सकता है |

 थायरॉइड नोड्यूल्स से संबधित कुछ बाते..

पुरुषो की तुलना में थायरॉइड नोड्यूल्स महिलाओ में तीन गुना अधिक होता है |

30 साल की उम्र की  माहिलाओ  में 30 %  तक थायरॉइड नोड्यूल्स  होने की सम्भावना  होती है |

40 जवान युवा आदमियों में से एक को थायरॉइड नोड्यूल्स की समस्या जरुर है |

अधिकतर 50 साल की उम्र होने तक एक  महिला के अन्दर  थायरॉइड नोड्यूल्स की समस्या होगी |

जादातर  थायरॉइड नोड्यूल्स समस्या उम्र के साथ ही बढती है |

थायरॉइड नोड्यूल्स से सबंधित कुछ प्रश्न ..

क्या थायरॉइड नोड्यूल्स गर्दन की   सरचनाओ पर दबाव डालकर परेशानी पैदा करती है ?

क्या नोड्यूल्स  बहुत अधिक मात्रा मर हार्मोन को बनाता है ?

क्या मुझे अपने थायरॉइड नोड्यूल्स  बारे में कुछ करने की जरूरत है ?

थायरॉइड नोड्यूल्स के लक्षण (Symptoms of Thyroid Nodules)

थायरॉइड नोड्यूल्स आमतौर पर कोई लक्षण नहीं पैदा करते है अगर सही तरह से देखे तो गर्दन की नियमित जाँच से या फिर एक्सरे की जाँच से ही पता लगाया जा सकता है | जब थायरॉइड नोड्यूल्स के लक्षण होते है तो इनमे सबसे पहले गर्दन में एक गांठ होती है और जब हम कुछ भी निगलते है तो इसमें दर्द बढ़ जाती है |

थायरॉइड नोड्यूल्स में क्या करना चाहिए ?:

थायरॉइड नोड्यूल्स की समस्या में इसे किसी ऐसे डॉक्टर को दिखाना चाहिए जो इस बीमारी को अच्छे से जानता हो | इस बीमारी से एंडोक्राइनोलॉजिस्ट और थायराइड विशेषज्ञ सर्जन ही अच्छी तरह से निपट सकते हैं | सबसे पहले डॉक्टर को अपने मरीज से यह प्रश्न करना चाहिए की क्या उसने कभी परमाणु विकिरण के रूप में कोई उपचार लिया है ?  क्या थायरॉइड की समस्या उसके परिवार में किसी के भी थी या नहीं ?

  रेडिएसन विकिरण क्या है   (What about Radiation Exposure?)

Ionizing विकरण  थायरॉइड कैसर को बढ़ावा देने के लये कई वर्षो से जाना जाता है ,सन 1920  और 1950 में कभी कभी विकिरण का इस्तेमाल सर और गर्दन के इलाज के लिए किया जाता था जैसे बढ़ी हुई टोंसिल ,त्वचा सम्बन्धी रोग जैसे गंभीर मुहासा और साइनसिसिटिस। जुलाई 1947 में  अमरीकी सरकार ने वैज्ञानिक अध्यन के तौर पार यह घोषणा की थी की 1945 से दक्षिण पूर्व अमेरिका में परमाणु हथियारों का परीक्षण अमरीकी नागरिको में थायरॉइड कैसर को बढ़ावा देगा |इस महामारी ने यह सिद्ध किया की इन परमाणु परीक्षणों से अगले कई दशको में अमेरिका में थायरॉइड कैसर में  बहुत वृद्धि होगी |

Thyroid Nodules Treatment : थायरॉइड नोड्यूल्स का उपचार ?

 थायरॉइड हॉर्मोन सप्रेशन थेरेपी : इस में सुप्त नोड्यूल्स का  इलाज लिवोथायरोक्सिन (लिवोक्सिल, सिंथरोइड) से किया जाता है इस प्रक्रिया में यह एक गोली की तरह लिया जाने वाला थायरोक्सिन का सिंथेटिक रूप होता है इसके लेने से थायरॉइड स्टियुमुलेटिंग हॉर्मोन निकलता है जो अतिरिक्त थायरॉइड हॉर्मोन को  कम  मात्रा में  निकालता है |

सर्जरी:  जब नोड्यूल्स का का आकार इतना बड़ा हो जाता है की खाना खाने और साँस लेने में दिक्कत होने लगती है तब सर्जरी बहुत ही जरुरी हो जाता है | बड़े मल्टीनोड्यूलर गॉइटर होने पर सर्जरी के द्वारा   नोड्यूल्स निकाला जाता है |

1 Comment

  1. Attractive section of content. I just stumbled upon your blog
    and in accession capital to assert that I get actually enjoyed account your blog
    posts. Any way I will be subscribing to your augment and even I achievement you access consistently rapidly.

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*